Kind Attention:

The postings in this blog are purely my personal views, and have nothing to do any commitment from Government, organization and other persons. The views in general respect all sections of society irrespective of class, race, religion, group, country or region, and are dedicated to pan-humanity. I sincerely apologize if any of my writing has hurt someone's sentiments even in the slightest way. Suggestions and comments are welcome.

Monday, 31 July 2017

रक्त-रिश्ते

रक्त-रिश्ते
---------------

रिश्तें प्राण-वाहक, हम निकसित उनसे, एक योग रक्त-सम्पर्क से  
कह सकते सीधे जुड़े, किसी औपचारिकता की आवश्यकता नहीं। 

कुछ जुड़ाव तो अति-निकट जैसे अभिभावक, दादा-दादी, नाना-नानी 
भाई-बहन, मामा-मौसी, चाचा-बुआ, चचेरा-फुफेरा, ममेरा-मौसेरा आदि। 
रक्त-माध्यम से पिता-माता कुलों से सीधे जुड़ते, श्रृंखला-गमन दूर तक 
अति-दूर तक ढूँढना-निबाहना कठिन, तथापि किया जा सकता प्रयास।  

कितनी गहराई तक हमारी रक्त-मूलें हैं, हम अधिक ध्यान न दे पाते
इस अल्प-जिंदगी में इतने मशगूल हो जाते, भूलते कोई और भी हैं। 
अति-सुलभ है अन्वेषण-राह यदि चाहें, गहन योग  देह-आत्माओं में 
प्रेम-भाषा बोलकर तो देखो, सब आऐंगे बाह पसारे गले से मिलने। 

रिश्ते हमारा उत्पत्ति-स्थल, रक्त-वीर्य प्रवाह हो रहा अति-दूर तक 
एक-दूजे के गुण परस्पर बाँटते, शक्लें-व्यवहार में मिलते से जाते। 
 अधिक स्थल-दूरी से सम्पर्क बाधित, कुछ समय पूर्व था स्नेह-अति  
विवाह-उत्सवों में मिलन-रीत, एक-दूजे को देख होती अति-ख़ुशी। 

हम आपस के सुख-दुःख बाँटते, जानते अपना है हानि न करे 
जैसे वे अपनी आत्मा का रूप, कुछ न दुराव अपने भीतर है। 
नाराजगी भी तो वहीं  जाहिर, कह-सुनकर हल्का होता मन  
सभी मनोभावों से गुजरते, सब परिस्थितियाँ  न निज-रूप। 

अनुवांशिक-गुण तो अति-विस्तृत, विज्ञान से विस्तार-विवरण  
माता-पिता, भाई-बहनें निकटतम, रिश्ते सुदूर तक वाहक। 
हममें-उनमें अभिभावक-गुण साँझे, अटूट योग है नित-सुदृढ़  
अनेक उसमें युजित हो सकते, जितना चाहे उतने हैं संभव।  

रक्त-रिश्ता अति-महत्त्वपूर्ण, माना सिमट जाते कुछ दूरी पर  
जानते हैं अपने ही, संसाधन-समय अभाव से दे पाते न ध्यान। 
कुनबा-अवधारणा ज्ञान, माना कि सदस्य भी आपस में लड़ते 
तथापि न्यूनतम सदाश्यता, अन्यों के विरुद्ध सब  एक-जुटते। 

प्रेम की चहुँ ओर जरूरत है, स्वार्थ से किंचित कृत-संकुचित 
निज-कोटरों में ही दुबके, बाहर आ अन्यों को न लगाते कंठ। 
स्व-दामन सिकोड़ा अनावश्यक, जब अनेक जन सकते समा   
मन को प्रेम-रहित किया,  कैसे विश्व-बंधुत्व की खुलेगी राह। 

संबंधी सब आर्थिक-सामाजिक स्थिति में, निर्धन से दूरी अग्रों में 
जब समुचित जानते अपने ही, तटस्थता-भाव दिखाते स्वार्थ में। 
ज्ञान का क्या लाभ यदि न व्यवहार-दर्शित, किया दूर निजों भी
संबंधी को तज अन्यों से सम्पर्क बढ़ाते, धीरे दूरी बढ़ती जाती। 

स्व-रुचियाँ महत्त्वपूर्ण, न आवश्यक रिश्तेदारों से पूर्ण-मेल  
अपने-2 गुट बना लेते, समय आने पर यह या वह पक्ष लेत। 
स्पर्धा-स्पृहा अधिक परस्पर में, आगे-पीछे टाँग भी खींच देते 
एक-दूजे का मज़ाक भी बनाते, जैसा उचित लगे निभा लेते। 

मित्रता एक वृहद-अध्याय, इस पर विस्तार से चिंतन कभी  
अभी विषय रक्त-रिश्ता, कैसे मिठास है डाली जा सकती। 
उसके अतिरिक्त संबंधी भी, भले प्रत्यक्ष रूप से न जुड़ते 
मेल-जोल से ही अपने बनते, अपनापन  हो जाता शनै-2। 

जहाँ हृदय-समीप वहाँ माधुर्य, प्रेम से परस्पर उत्साह-वर्धन  
सभी कुछ सहन चाहे कत्ल भी हो, प्रेम सर्वोपरि लेगा स्थान। 
अभिभावक-संतानों में न है स्पर्धा, झेल लेते उच्छृंखलता भी  
बंधु-भगिनियों में आदर, अति-गुणवत्ता संभव अस्वार्थ यदि। 

एकत्रित करें संबंधी-कुटुम्बियों को, घर जाकर भी दिखाऐं स्नेह
वे भी हमारे प्रेम के भूखें, मिलने-जुलने से तो निकटता बढ़ेगी। 
यदि परस्पर स्नेह-समझदारी, एक-जुटता से तो शक्ति-विश्वास 
एक-दूजे को सहना भी उत्तम गुण, जीवंतता से वर्धन-सौहार्द। 

सबमें सब भाँति के गुण, उत्तम को अपनाऐं क्षीणता को तज 
सहनशीलता निज-पालक, आगे बढ़ो, सबको लगाओ कंठ।  


पवन कुमार,
३१ जुलाई, २०१७ समय १३:५१ दोपहर 
(मेरी डायरी दि० २५ जुलाई, २०१६ समय १०:२७ प्रातः से)