Kind Attention:

The postings in this blog are purely my personal views, and have nothing to do any commitment from Government, organization and other persons. The views in general respect all sections of society irrespective of class, race, religion, group, country or region, and are dedicated to pan-humanity. I sincerely apologize if any of my writing has hurt someone's sentiments even in the slightest way. Suggestions and comments are welcome.

Sunday, 21 July 2019

एकाकीपन

एकाकीपन 
--------------

विशाल विश्व नर अकेला, बाह्य-शरण भी अल्प-अवधि तक
तन्हाईयों में खुद ही डूबना, बहुदा प्रश्न कैसे काटें समय। 

कदाचित बोरियत-सीमा तक यह नितांत एकाकी पाता स्वयं
किसके पास जाकर व्यथा बाँटें, अपने में संसार जी रहें सब। 
अंतः-स्थिति सबकी एक सी, कुछ कह लेते पर पड़ता सहना 
एक क्षीणता सी अंतः-गृह, तन-बली होकर भी नर दुर्बल सा। 

बहुदा दर्शन नरमुख सड़क पर चलते, कार्यालय में अकेले बैठे 
खेती-मजदूरी करते, बूढ़े प्रतीक्षा में, बेरोजगार खाली भटकते। 
सब कुछ ढूँढ़ते से, बस कह न पाते, मस्तिष्क तो सदा कार्यरत 
बहुदा व्याज बनाता, मात्र कयास जबकि पता सिद्धि न निकट।  

यह क्या छुपा जो सदा-आविष्कृत, शायद निज कष्टों का उद्धरण
या ग्रन्थित प्रहेलिकाओं का हल-ढूँढ़न प्रयत्न, चाहे हस्त में या न।  
बस भ्रांत-दशा कभी यत्र-तत्र है अटके, जीवन शांति से न निर्वाह 
बस कुछ सुनो-कहो किसी से, नजरिया भी सदा बदलता रहता। 

मानव एक विवेकी जीव, सदैव मनन में चाहे अन्यों को न हो रास 
निज-शैलियाँ में एक गुमशुदा सा, अंदर से सुबकता-उबलता सा। 
कभी प्रतिक्रिया, ध्यानाकर्षण हेतु शोर भी, पर ज्ञान अंतः-अबल 
कभी दंबंग-स्थिति भी बनाता, पर प्रायः अपने से ही नहीं फुरसत। 

नर-समूहों में सहयोग भी दिखता, एकजुटता सी पंक्तियों में चलते
पर जमघट हटते ही फिर अकेले, लोकोक्ति कि अकेले आए - गए। 
जीवन में कुछ मेल-जोल रहता बात कर लेते, मन कुछ बहल जाता 
अंततः स्व में ही लौटना, बहु-नर चहुँ ओर तथापि तन्हा से ही रहता। 

 एकाकीपन-उबरन हेतु परस्पर संवाद की अनेक विधियाँ मानव-कृत 
सामान्यतया एक लौकिक, अतः जब भी अकेला बेचैनी सी अद्भुत।  
कला-संगीत, प्रदर्शनी-गोष्ठियाँ, कार्यस्थल-प्रगल्भ, कलह-युद्ध, प्रवचन 
मित्र-सौहार्द, आदर-रक्षा, मान-मनुहार, हाट शोर-गुल व विभिन्न ग्रंथ। 

लेखन भी अंतरंगता हेतु, एकाकी छटपटाहट, निजात-उपायान्वेषण 
कोई बने मूर्ति-चित्रकार, रंगकर्मी, कोई दार्शनिक अथवा वैज्ञानिक। 
सब अंतः से एक अंतरंगता चाहते, रिक्त क्षणों में जीवन कैसे पूरित 
'दिमाग खाली तो शैतानी घर', बल-समन्वय से कुछ मूर्त-निर्माण कर। 

मेरे मन की भी एक दुःख-सहन सीमा, अधिकता पर छटपटाहट 
ढूँढने लगता पठन-सामग्री, कुछ देर होता मस्तिष्क और व्यस्त।  
ज्वलंत समस्या यदि मन में तो उपाय भी, किसी-२ को भी छेड़ता 
सदा निज व अन्यों को चुनौती, परस्पर संवाद से ही जग चलता। 

क्या हम जो बहिर्प्रतीत वैसे ही, या अंतः का भी कोई अस्तित्व 
कौन सदा सुलगाता-ललकारता, करता भी उदास-व्यग्र-उग्र। 
कौन यंत्र पूर्ण-विवह्लित है कर जाता, नितांत निराश्रय से हम  
छटपटाते औरों को कष्ट देते, कर्मों की संनिरीक्षा, स्व पर प्रश्न। 

प्राणी एक महासमुद्र सम पर थाह अज्ञात, किसी कोण दुबका 
 भला यावत अन्यों से एकजुटता, पश्चात विशाल-लुप्त निर्बल सा। 
किञ्चित अज्ञात वृहद-स्वप्न से, बुद्ध-महावीर से खोज हेतु प्रस्थान 
प्रश्नों के उत्तर यहीं पर गोता लगा रत्न चिन्ह व उठाने का साहस। 

सब मानवेतर जीवों में भी एक मस्तिष्क, आत्मसम कोई मनन 
चाहे हमें पूर्ण समझ नहीं है, कुछ तो सदा उनमें भी घटित पर। 
अंतर्युद्ध का मात्र किञ्चित ही मुखरित, गह्वर विपुल सागर सम 
सर्व चिंतन-चुनौती आत्मसातार्थ, सिद्धि कितना उत्तम संभव। 

जीव एकाकी जन्म से आमरण, स्वयं ही झेलने सब कष्ट-व्याधि 
यश-तर्जना, स्वीकृति-मूढ़ता, दृष्टिमान सब प्रयत्न-अभिव्यक्ति। 
'आत्म निखरण-परिष्कार'  उत्तम शब्द, उलझनों से जाना पार
संयुक्त-प्रयास व जग-साधनों से एकाकीपन का कुछ उपाय। 

अतः न क्षोभ-स्थिति, सर्व स्ववत, मिल-बैठ बना मधुर-परिवेश 
जब रिक्त-ऋतु एकांत सताऐ, कुछ कलाप्रेमी सा संवारो निज। 


पवन कुमार,
२१ जुलाई, २०१९ समय ८:३२ संध्या 
(मेरी डायरी १४ फरवरी २०१९ समय १०:२३ बजे प्रातः से) 

No comments:

Post a Comment