Kind Attention:

The postings in this blog are purely my personal views, and have nothing to do any commitment from Government, organization and other persons. The views in general respect all sections of society irrespective of class, race, religion, group, country or region, and are dedicated to pan-humanity. I sincerely apologize if any of my writing has hurt someone's sentiments even in the slightest way. Suggestions and comments are welcome.

Thursday, 16 April 2020

कवि-उदय

कवि-उदय 
--------------


कैसे नर-उपजित कलाकार-कवि रूप में, प्रायः तो सामान्य ही 
देव-दानव वही, एक स्वीकार दूजे से भीत हो कोशिश दूरी की। 

यह क्या है जो अंतः पिंजर-पाशित, छटपटाता मुक्ति हेतु सतत 
मुक्ति स्व-घोषित सीमाऐं लाँघन से, कितनी दूर तक दृष्टि संभव? 
दूरियों से डरे, किनारे खड़े रहें, लोग आगे बढ़ते गए व दूर-गमन
आत्मसात की प्रबल आकांक्षा, मन को प्राप्ति हेतु करना तत्पर। 

एक महा-स्वोन्नति लक्ष्य, भौतिक-आध्यत्मिक एवं निज-व्याख्या 
उदधि-पार द्वीप-वृक्षों का दर्शन, पतवार चढ़ चक्कर लगा आना। 
वहाँ  स्थित वे प्रतीक्षा कर रहें, उठो तो प्रकृति-संसाधन दर्शनार्थ 
विपुल-साम्राज्य तव हेतु ही, घुमक्कड़ी-बेड़ा तैयार कर लो बस। 

कुलबुलाहट-क्षोभित, क्या व्यथा-कारण सुलगते अग्नि बनने हेतु 
अति ऊष्मा-ईंधन आवश्यकता, ज्वाला बन भी क्या लक्ष्य होगा? 
क्या महज स्व-हित ही चाहते, या पूर्ण-विश्व को भी दिखाना दिप्त 
त्रस्त-तमोमयी आत्मा बस जी रहीं, व्यर्थ प्रपंच फँस प्राण-व्यर्थ। 

पर प्रथम कर्त्तव्य तो स्व-त्राण, व्यवधानों से न हुआ व्यक्त निर्मल
जब दीप्त-कक्ष के कपाट बंद हों , कौन कुञ्जी  दिलाएगी प्रवेश?
अति-सूक्ष्म  द्रष्टा तो न हूँ माना, पर प्रयास कि हो एक कवि-जन्म 
बाल्मीकि तो क्रोञ्च-विरह अनुभूति से ही, निर्मल श्लोक उद्गीरत। 

कैसे व्यास सम नर, कहाँ छुपा अपरिमित ज्ञान व सामर्थ्य-कथन  
किस परिवेश-सान्निध्य से गणेश-गुहा प्रवेश, बैठ लिखे जाते ग्रंथ?  
जो सहायक पूर्णतार्थ, ललकारते भी, मूलतः निज ही अभिव्यक्ति 
बाह्य-निनाद  परे एकांत कारक-सामंजस्य, कामायनी सम कृति। 

विशेष प्रेरणा संग विटप प्रति आवश्यक, अंकुर-निर्माण तभी संभव 
प्रक्रिया उपनयनित शिक्षार्थ, कालोपरांत प्रबुद्ध भाव भी हो उत्पन्न।  
कुछ नित चयन-प्रक्रिया त्याज्य-त्याग, ग्रहणीयों के लब्धार्थ  प्रयास 
गुण-संकलित तो अभूतपूर्व ऊर्जा उदय, अनेक संग हित -सक्षम। 

जीवन प्राप्त भाग्य से ही, कुछ पदार्थ संग्रह करो मननार्थ चित्त-दान 
पर कितना प्रयुक्त सत्य-सार्थक, या व्यर्थ-अनर्गल ही गल्प-प्रलाप। 
विद्वद-उक्ति अथाह संभावना पुण्य-कृत्यों हेतु व सर्व-लोक कल्याण 
प्रवीणता इस अदने शख्स में भी, पर आवश्यक है अन्वेषण-उपाय। 

संसाधन यदि संयोजित, निपुण रचनात्मकता स्वतः ही अग्रचरणित 
ज्ञानी तो नित-अतंद्रित, विदित जीवन ही व्यापकता हेतु समर्पित। 
निर्मल-चित्त, विश्व-व्यापी, सबके प्रति न्याय-प्रेम व भाव प्रगति-पथ 
समय व्यर्थ एक मरण सी स्थिति, स्व को ललकारना लगता उत्तम। 

एक कवि आत्म-क्रांत दर्शन में समर्थ, सर्व-सौंदर्य मुखरण-त्वरित 
निष्पक्ष विश्व-दर्शन में सक्षम, अत्याचारों-कष्टों प्रति दयालु-नरम। 
एक उज्ज्वल सदा मन-देह में, विवेकी नीर-क्षीर भेदन में है सक्षम 
सरस्वती वाणी-निवासित, न्यून सम न नकार, अति अंतः-समृद्ध। 
  
इस चित्त-बुद्धि में सर्वस्व समा सकता, वृहद-वक्ष किधर से उत्पन्न 
अनेक विश्व-रहस्य विदित, गुह्य-जटिल तथ्य सुलभ हो होते समक्ष। 
वह है श्रेष्ठ नियम-धर्ता, पालन-कर्ता, करुणा-दृष्टि में सब एक सम 
पर बाह्य विश्व में कई भाट भी, जिनकी कवि-कृति मात्र निर्वाहार्थ। 

रचनात्मकता है आयामों में मनन-सामर्थ्य, निज ही से कुछ रचना 
 जब कृति विश्व-धरोहर तो कह सकोगे, मैं भी कुछ भागी-विपुलता। 
निज तो न कुछ सब प्रकृति-पूंजी, मात्र उपयोग करना सीख लिया 
तन-मन-धन सब उसी का उपहार, विजयी-गर्वशून्यता ही थाती। 

वह कवि तो अति-महान चरित्र घड़ लेता, अनेक गुणों का समावेश 
एक कथानक बुनने में समर्थ, कुछ प्रेरणा-मनन सदैव रहती साथ। 
निज-विस्मृति समर्थ चाहे कुछ काल ही, मात्र प्रयोजनों में ही लुप्त 
विद्या-निवासिनी संग, हर शब्द परीक्षित, वाक्यांशों पर और बल। 

मन-कवि कहाँ बसता, न निकसित, इस कलम का ही सत्य-संघर्ष 
उत्तम रचनार्थ तो सदा प्रयासी, पर कब संभव विधि को ही विदित? 
अवश्यमेव संकीर्णता-मुक्ति, क्रांतदर्शी मन करे शुरू बहुल दर्शन 
       निर्मल भाव अंततः होगा पर तावत प्रतीक्षा, जैसा संभव रहो चलित।       

कोई साहित्य-प्रशिक्षण तो न, स्व से ही कुछ ली शब्द-संकलन शिक्षा 
निस्संदेह कालि-व्यास-सूर-कबीर-शैक्सपीयर-प्रसाद सी तो न गूढ़ता। 
पर किञ्चित यह कुछ जीव उदितमान, अल्पाधिक निर्मल देगा ही रच 
सतत-अभ्यास इसकी भी सीढ़ी, कला-पारंगतता असीम धैर्य का नाम। 

माना आम मनुज न गूढ़ साहित्य-रसिक, पर दूरात तो स्तुति कर देता 
पर सत्य-कवि न यशाकांक्षी, वह स्व-विकार ही मर्दन करना चाहता। 
दूरगामी दृष्टि से नक्षत्रों के पार चरम ब्रह्माण्ड-छोर तक गंतुम-समर्थ 
एक अति-विशालता से सतत परिचय, प्रत्येक अंश से लगाव महद। 

एक आह सी मुख से निकलती, उत्तम न ज्ञात कैसे हो दुर्गम पथ पार 
संपूर्ण शक्ति इसी पर, सदा व्यक्त रहें निर्मल-सर्वकल्याणक उद्गार। 
कुछ परिवेश-स्वच्छता जिम्मा भी लेता, हर क्षण का प्रयोग समुचित 
सर्व दंभ निर्मूलित, साहसी भी कि सत्य-कथन में न तनिक झिझक। 

जिस दिवस हो यह अंतर्भय अंत, सर्व-मानवता हेतु उपजेगा करुण 
एक  कालखंड वासी को अमरत्व, पर न अतिश्योक्ति-आत्ममुग्ध। 
ऐसा साहित्य विश्व निजता-गर्व कर सके, क्या इस लेखनी से संभव 
संवेदनशील, समय-परीक्षा से परे, गागर में सागर समाना साहस। 

कुछ  निर्मल-हृदय योग हो इस वृहद अभियान में, कुछ हो सहायता 
प्रशंसा तो आ ही जाती, पर कोई उर से कृति स्वीकारे तो आए मज़ा। 
कुछ विवेचना हो, दोष भी निकाले जाऐं, ताकि व्यक्तित्व हो परिपक्व 
एक कवि-दार्शनिक  भाव मन में आए, तो जग-आगमन हो सार्थक। 

अद्य-प्रयास  स्वयं से परिचित होना, जिससे कुछ कवित्व हो प्रदर्शित 
  मम लेखन यदि  विस्तृत बन सके, मृदुल-भाव रचना हो  पाए रचित।  


पवन कुमार,
१६ अप्रैल, २०२० वीरवार, समय  ६:०१ बजे सुप्रभात 
(मेरी महेंद्रगढ़ डायरी दि० १७ मई, २०१९, शुक्रवार, समय ७:५५ बजे प्रातः से)   


  

No comments:

Post a comment