Kind Attention:

The postings in this blog are purely my personal views, and have nothing to do any commitment from Government, organization and other persons. The views in general respect all sections of society irrespective of class, race, religion, group, country or region, and are dedicated to pan-humanity. I sincerely apologize if any of my writing has hurt someone's sentiments even in the slightest way. Suggestions and comments are welcome.

Sunday, 3 March 2019

श्रम-विचार

श्रम-विचार
--------------- 

हम किन हेतु काम करते निज या अन्यों के, या व्यर्थ तनों को रहें थका 
 गधा-बैल-ऊँट-अश्व सारी वय स्वामी हेतु भार ढ़ोते, बदले में पुण्य कितना?

क्या श्रम का जग में कुछ आदर, भवन बनते ही मजदूर दिए जाते हटा 
फैक्ट्री में मजदूर दिन-रात खटता, क्षतिपूर्ति भी न होती बाद दुर्घटना। 
कितने श्रमिकों को है पूर्ण-भृत्ति ही प्राप्त, वाँछित सुविधाऐं तो अज्ञात  
सब तो न अनेक धनी बन जाते, श्रमिक-प्राण में न विशेष परिवर्तन। 

विश्व में सर्व-जन लोग काम कर रहे, अब किस हेतु यह तो पूर्ण न ज्ञान  
मजदूर-श्रम से पूंजीपतियों को लाभ, पर अंततः प्रजा-प्रयोग ही उत्पाद। 
हम कार्यालय में काम करते, खीज भी जाते दिन-रात्रि मात्र करते काम
पर प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष असर विशाल जगार्थ ही, हम न सोच पाते शायद।

बोझ ढ़ोने को क्या कहें खटना या वृहद जन-सेवा, एक प्रश्न है विशाल 
क्या भर्ता में श्रमिक-भावना मान, उसका जीवन-सुघड़ता का प्रयास? 
क्या सोचते कर्मी व कुटुंब हेतु, कि वहीं से श्रमिकों की नई खेप मिलेगी 
अतः कोशिश पूर्ति टूटने न पाए, इतना ही दो कि कठिनता से पेट-पूर्ति। 

इतना बड़ा तंत्र अनेक कर्मी भरती कर रखें, अपने-२ कामों में लगे सब 
कितना माल-मसाला-सामग्री भी चाहिए, पूर्ण उत्पाद इनसे ही निर्मित। 
नर में  उत्पादकता परिवर्तन का हुनर चाहिए, आवश्यकता अधिक वहाँ 
जीवन में सर्वस्व तो न प्राप्त सबको, कुछ नर हासिए पर रखे जाते माना। 

अब धनी लाभ में उसके बच्चों को उत्तम शिक्षा, अच्छे तौर-तरीके रहें सीख 
निर्धन अधिकांशतः अशिक्षित, गँवारू शैली, सभ्य-जग के तरीके अदर्शित। 
यावत न नर को मूलभूत जरूरत पूर्ति, संतति-भविष्य हेतु न अधिक विचार  
कुछ संस्था-समाजों की शोषितों प्रति सहानुभूति, जीवन-प्रकाश का प्रयास।

पूँजीवाद-शोषण का पुरा-संबंध, पर साम्यवाद से आम नर प्रति तंत्र बाध्य 
कुछ trickling effects भी आऐं, तथापि सर्व-धन चंद हाथों में चला जाता। 
पर क्या डर से काम करना ही बंद कर दे, कि सब जाएगा धनियों के पास 
उचित पर उदर-आत्मा तृप्ति भी जरूरी, अतः कर्म करो, लाभार्थ प्रयास। 


पवन कुमार,
३ मार्च, २०१९ समय 00: १९ मध्य-रात्रि 
(मेरी डायरी दि० १६ फरवरी, २०१८ समय ९:२१ बजे से)

No comments:

Post a Comment